RSS

Tag Archives: शिष्य

The nation desperately needs Pujya Sant Shri Asharam Bapuji

Slide2

Since about last 45 years Pujya Bapuji has been constantly serving the society with all his will and dedication. His contribution to various segments of society has been immeasurable. His work towards upliftment and inculcation of cultural values in our society, nurturing the youth with ethics, morals and virtues of devotion, helping people get rid of the physical and mental ill-health and spiritual elevation of men and women should not be underestimated.. The various activities initiated and guided by Pujya Bapuji like, “Yuvadhan Suraksha Abhiyan”, “Mahila Uthhan Mandal”, “Vyasan Mukti Abhiyan” , “Garbhpat Roko Abhiyan”, “Bal Sanskar Kendra” etc. have undoubtedly prevented society from further demoralization and saved billions of rupees.

Charged with spiritual vibes,The Ashram of Sant Shri Asharamji Bapu, the fountain of world peace, was established on 29th January 1972 on the bank of the River Sabarmati in Ahmedabad. Today, there are more than 425 Ashrams at various places in India and abroad. Ashrams have been established abroad also at Matawan (USA), Toronto (Canada) etc. More than 1400 Shri Yoga Vedanta Sewa Samitis are being run by the Ashram in the country and abroad and are engaged in serving all strata of the society. These Sewa Samitis are also active in New Jersey(USA), Dubai, Singapore, Nepal, Pakistan, Bangladesh, Sri Lanka, Hong Kong, Chile, Kenya, England, West Indies and many other cities and countries.

More than 17000 Baal Samskar Kendras, Chhaatra Samskar Kendras and Kanya Samskar Kendras are being run in the country and abroad to inculcate noble traits in the students.For protection and preservation of wealth of youthfulness  more than 2 crore  ‘Divya Prerana Prakash’ booklets have been distributed among the students, youths and others. It has worked to save the nation from grave problems like teenage pregnancy and its social as well as economic disadvantages that costs billions of dollars to the developed nations every year. Many youth development programmes have been organised and has brought new awareness in the youth.

Gurukul Education run by the ashram provides  a perfect blending of modern education and spiritual  knowledge. Developing extraordinary talents, Gurukul students are making their country and their culture proud.

Mahila Utthan Mandal conducts activities like Samskara Sabha, anti-abortion drives,  illustrious women campaign, inculcating divine traits in children, cow-protection, prisoners’ reformation campaign, Bhakti awakening campaign and planting of trees. Yuva Sewa Sangh provides platform for youth counselling meetings, illustrious youth campaign, life-development campaign, parents’ worship day, patriotism yatras, feasts for poor and all round development of youths are conducted.

For tribal and underprivileged  people’s development, in addition to conducting bhandaras(feasts), in different areas of the country through Tribal Development Centres, time to time Pujya Bapuji Himself distributes food-grains, clothes, utensils etc. among tribal people and notebooks, sweets etc among needy children in large scale. Feasts and kirtan in poverty-stricken areas has become a regular part of Ashram activities. Lakhs of poor, orphans, downtrodden and tribals have benefitted through thousands of bhandaras (feasts).Distribution of food-grains is done through Ration Cards given by the Ashram to the poor, the destitute and the widows through which food and other necessities of life are provided free of cost every month.With the help of De-addiction Campaigns run by the Ashram, lakhs of addicts give up addictions and participate in altruistic activities run by the Ashram.It has saved the nation trillions of rupees. Bapuji has devoted 50 years of his life to the spiritual awakening of the people.

Buttermilk and Drinking Water Stands are set up at Bus Stands, Railway Stations and other public places where buttermilk and water are provided free of cost.Ashram’s Natural Disaster and Emergency services have been in the forefront in times of natural disasters in various parts of the country. Whether it was earthquake of Latur, Bhuj, famine of Gujarat, floods in Odisha, Bihar, Uttarakhand and Gujarat or the Tsunami Disaster – the Ashram and its Samitis have served the people. Under the Food , Wages and chanting Scheme carried out by the Ashram, those with no income and not capable of doing any job are invited to spend the whole day doing Japa of Divine name, kirtan and satsang and are given food and wages so that poverty and unemployment are reduced and the atmosphere is purified by japa and kirtan.9 large Goshalas are being run by the Ashram in which thousands of cows, saved from being taken to slaughter houses, are being tended. Medicines are prepared from the urine of these cows. Goshalas are being run in Gujarat, Madhya Pradesh, Rajasthan, Punjab, Haryana, Maharashtra etc.

‘Rishi Darshan’, a spiritual monthly video magazine based on Pujya Bapuji’s life, discourses and altruistic activities is released every month.Also anyone can get at their home, a treasure of all-encompassing knowledge in the form of monthly magazine ‘Rishi Prasad’ and monthly newsletter ‘Lok Kalyan Setu’.Satsang programmes of Pujya Bapuji and his chosen disciples are held in cities, towns and villages and in schools all over the country. This way noble thoughts and values are disseminated in the society..

Meditation, Yoga and Spiritual camps are attended by lakhs of men and women every year, which is organized in Pujya Bapuji’s pious presence to awaken their latent powers through meditation and Kundalini Shaktipaata.

‘Prisoners’ Reformation programs are held all over the country. Under this programme, spiritual literature is distributed in jails free of charge. Yogasanas, Pranayamas and satsang programmes are organised for physical, mental and spiritual uplift of prisoners.Notebooks, pens, slates, books, uniforms etc. are provided free of charge to lakhs of poor, underprivileged and orphan students. Special notebooks are published for students by the Ashram containing pictures of God and saints, with quotes of moral teachings, inspiring anecdotes and tips for improving memory and excelling in exams. Mats, desks and chairs are provided to needy schools in rural and tribal areas.

Students’ Talent Development Programmes are organised under the aegis of Pujya Bapuji to strengthen the  foundation of their life. In these programmes, students are spiritually trained in yogasanas, Pranayamas,  meditation etc. so that they can develop their dormant powers and become talented, goal-oriented, strong-willed, memory masters and conscientious. Today’s children are tomorrow’s citizens and they will do their parents, teachers and country proud. Medical treatment is given at various Ashrams by expert practitioners of harmless therapies like Ayurveda, Homeopathy and Naturopathy systems. Free medical camps are organised in remote areas. Ashram’s mobile dispensaries reach tribal and rural areas where government medical services are not available. Serving the patients in hospitals by providing  fruits, milk, medicines and books are distributed to the patients in hospitals.

Divya Prerna Prakash Gyaana Competition is organised every year by the Ashram in schools and colleges in all the states. Through this competition, students are trained to become men of character, goal-oriented, industrious, useful and cultured, and are provided with keys for spiritual development and success in all walks of life. The popularity of this competition has been increasing year after year. The number of participants has increased from 4,55,000 in the year 2008 to 25,57,823 in 2012.

Pious Banyan/Pipal Tree charged with spiritual energy is found in every Ashram to fulfil worldly desires of people. Devotees call them ‘King Banyan/Pipal’. Today, they have become wish-fulfilling trees.

Yagnas for purification of the atmosphere with chanting of Vedic mantras are organised from time to time to counter thought pollution and environmental pollution.Yoga and noble traits inculcation programme in schools and colleges are conducted by Devotees from the Ashram  all over the country in which thye provide training in Yogasanas, Pranayamas and memory-development exercises.

Divine Name Sankirtan Yatras are taken out by all Ashrams and Shri Yoga Vedanta Seva Samitis in different parts of the country in all states with the objective of spreading religious ideas, moral education and awareness to de-addiction.

Pujya Bapuji is the first ever citizen to inspire youth to celebrate the 14th of February as “Matru-Pitru Pujan Divas”(Parent’s Worship Day) and not as Valentine’s Day, which indeed adds a lot to strengthen the family system and character building of the youth. Parents’ Worship Day is celebrated with the objective that students should be saved from the evil of ‘Valentine’s Day’ and from falling prey to passion and its disastrous effects like teenage pregnancy, sexually transmitted diseases, and poor academic results, and enable them  lead a life of purity and righteousness to enjoy positive health, happiness and respect in their life through making a brilliant career.. This pious day of giving respect to parents is celebrated individually at homes and collectively in schools and colleges and at public places with the pious feeling of divinity in parents and the teachers. The festival is celebrated not only in India but also in many countries of the world.

Bapuji’s hardwork for the betterment of the youth of this country, understanding that they are the future citizens, vouch for his foresight and his love for the countrymen. It has helped the youth from demoralization caused by loss of  cultural values. He had raised a voice of protest against the molestation of girls working at Call Centres. Pujya Bapuji has been putting an immense amount of thought and action to protect  the youth from cultural conversion caused by constant bombardment of  westernisation. Thousands have been freed from the intoxicating habits like alcohol, drugs, pan masala, guthka etc. ever since they have come in touch with Pujya Bapuji. These activities have resulted in better health of these people and for sure saved trillions of rupees collectively , contributed to individual savings and added to the economy of the country.

Thus for so many reasons and many more, we definitely need the guidance of Pujya Bapuji to build a healthy and a value based society. The society should not be deprived of the teachings of Pujya Bapuji through His satsang programs which gives not only a message of peace and selfless service but gives spiritual joy, and inner peace to millions of people all over the world.

Advertisements
 
Leave a comment

Posted by on January 27, 2014 in Saint and Sages of India

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Param Shradheya Datashaji Maharaj (Panjab) “Ham Ek Hai”

1

 
Leave a comment

Posted by on January 26, 2014 in Parents Worship Day

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Image

सावधान रहने की आवश्यकता

IMG-20140121-WA0002

सावधान रहने की आवश्यकता

सनातन धर्म के संतों ने जब-जब व्यापक रूप से समाज को जगाने का प्रयास किया है, तब-तब उनको विधर्मी ताकतों के द्वारा बदनाम करने के लिए षड्यंत्र किये गये हैं, जिनमें वे कभी-कभी हिन्दू संतों को भी मोहरा बनाकर हिन्दू संतों के खिलाफ दुष्प्रचार करने में सफल हो जाते हैं। यह हिन्दुओं की दुर्बलता है कि वे विधर्मियों के चक्कर में आकर अपने ही संतों की निंदा सुनकर विधर्मियों की हाँ में हाँ करने लग जाते हैं और उनकी हिन्दू धर्म को नष्ट करने की गहरी साजिश को समझ नहीं पाते। इसे हिन्दुओं का भोलापन भी कह सकते हैं। कुछ तो इतने भोले हैं कि जब किसी बड़े संत पर षड्यंत्रकारी आरोप लगाते हैं तो खुश होते हैं कि ‘अब हम बड़े हो जायेंगे’ और वे नं. 1 बनने की कवायद करने लग जाते हैं। उनको पता नहीं कि वे भी आगे चलकर षड्यंत्रकारियों के शिकार होंगे। ऐसे लोग भी विधर्मियों के षड्यंत्रों से अपनी संस्कृति की रक्षा करने के बदले उनके पिट्ठू बन जाते हैं।
स्वामी विवेकानंदजी जब अमेरिका में सनातन धर्म की महिमा गाकर भारत का गौरव बढ़ा रहे थे तब वहाँ कुछ हिन्दुओं ने ही उनकी निंदा करना, कुप्रचार करनेवालों को सहयोग देना शुरू कर दिया, जिनमें मुख्य थे वीरचंद गांधी और प्रतापचन्द्र मजूमदार। प्रतापचन्द्र मजूमदार ईसाई मिशनरियों की कठपुतली बन गया। ‘विवेकानंदजी एक विषयलम्पट साधु, विलासी युवान और हमेशा जवान लड़कियों के बीच रहनेवाला चरित्रहीन पुरुष है’ – ऐसा अमेरिका के प्रसिद्ध अखबारों में लिखने लगा। इन दुष्प्रचारकों ने विवेकानंदजी के भक्त की नौकरानी का विवेकानंदजी के द्वारा यौन-शोषण किया गया ऐसी मनगढ़ंत कहानी भी छाप दी। जिस भवन में स्वामी विवेकानंदजी का प्रवचन होता उसके सामने वे लोग एक अर्धनग्न लड़की के साथ विवेकानंदजी के फोटो के पोस्टर भी लगा देते थे। फिर भी स्वामी विवेकानंदजी के अमेरिकन भक्तों की श्रद्धा वे हिला न सके। तब प्रतापचन्द्र मजूमदार भारत आया और उनकी निंदा करने लगा। विवेकानंदजी पर ठगी, अनेक स्त्रियों का चरित्रभंग करने के आरोप लगाने लगा। ‘स्वामी विवेकानंदजी भारत के सनातन धर्म के किसी भी मत के साधु ही नहीं हैं’ – ऐसा दुष्प्रचार करने लगा।
विधर्मियों द्वारा षड़्यंत्रों के तहत लगवाये गये ऐसे अनेक आरोपों को झेलते हुए भी स्वामी विवेकानंदजी सनातन धर्म का प्रचार करते रहे। उन्हें आज समस्त विश्व के लोग एक महापुरुष के रूप में आदर से देखते हैं लेकिन मजूमदार किस नरक में सड़ता होगा हमें पता नहीं।
महानिर्वाणी अखाड़ा के महामंडलेश्वर श्री नित्यानंदजी जैसे समझदार तो कहते हैं : ‘‘किसी भी हिन्दू संत को यह अधिकार नहीं है कि दूसरे संत की निंदा करे। उनमें से बहुत लोग जो आशारामजी बापू पर टीका-टिप्पणी कर रहे हैं, वे संत ही नहीं हैं। जो भी बापू की निंदा कर रहे हैं, वे संत नहीं हैं। अगर आप इस समय आशारामजी बापू का समर्थन नहीं करना चाहते तो कम-से-कम चुप रहो। तुम क्यों सब जगह जा-जाकर (या लेख लिखकर) गलत बोल रहे हो जबकि न्यायालय में अभी तक कुछ भी साबित नहीं हुआ है।’’
लेकिन नासमझ लोग, जो संत नहीं हैं, वे अपनी अल्पबुद्धि का परिचय देते हैं। एक नासमझ लेखक ने लिखा है : ‘‘यह आरोप सत्य है या असत्य इसका निर्णय तो न्यायपालिका करेगी परंतु इस प्रकार की घटना संत-महात्माओं को कलंकित करती है।’’
यदि न्यायपालिका का निर्णय आया नहीं है तो तुम क्यों निर्णय देकर संत-महात्माओं के कलंकित होने की बात स्वीकार करते हो? आरोप लगनेमात्र से यदि महात्मा कलंकित हो जाते तो वर्तमानकालीन शंकराचार्य श्री जयेन्द्र सरस्वतीजी, कृपालुजी महाराज, स्वामी केशवानंदजी आदि तथा पूर्वकालीन संत जैसे स्वामी विवेकानंदजी, नरसिंह मेहता, संत एकनाथजी आदि पर भी कई दुष्टों ने आरोप लगाये थे। आरोप लगानेवालों ने तो भगवान को भी नहीं बख्शा था। भगवान श्रीकृष्ण पर भी स्यमंतक मणि चुराने का आरोप और अन्य कई प्रकार के आरोप लगाये गये थे। भगवान श्रीरामचन्द्रजी पर भी आरोप लगा था कि बालि को उन्होंने युद्धधर्म की नीति का उल्लंघन करके मारा था और महान पतिव्रता नारी सीता देवी पर भी एक धोबी ने चरित्रभ्रष्ट होने का आरोप लगाया था। इससे क्या उनकी भगवत्ता कलंकित हो गयी? महात्मा बुद्ध पर भी तत्कालीन दुष्ट अधर्मियों ने आरोप लगाये थे तो क्या इससे उनकी महानता कलंकित हो गयी?
दूसरा, बंगाली बाबा या किसी अन्य साधु के दृष्टांत से सभी महापुरुषों को तौलना नासमझी है। जीवन्मुक्त महापुरुषों के व्यवहार में भिन्नता होने पर भी वे सब ज्ञाननिष्ठा में पूर्ण होते हैं। वेदव्यासजी के पुत्र शुकदेवजी बड़े त्यागी थे लेकिन उनको ज्ञान लेने के लिए गृहस्थी महापुरुष राजा जनक के पास जाना पड़ा। रामकृष्ण परमहंस त्यागी परमहंस थे लेकिन उनके शिष्य विवेकानंदजी देश-विदेश में धर्म-प्रचार के लिए भ्रमण करते थे, पुरुष और स्त्री दोनों को शिक्षा-दीक्षा देते थे इसलिए वे महान संत नहीं थे यह कहना उचित नहीं है। राजा जनक, महात्मा बुद्ध, आद्य शंकराचार्यजी आदि अनेक संतों-महापुरुषों ने स्त्रियों के उद्धार के द्वारा समाज का उद्धार करने के लिए स्त्रियों को शिक्षा-दीक्षा दी।
कुछ संकीर्ण मानसिकता से ग्रस्त नासमझ लोग शास्त्रों का गलत अर्थघटन करके समाज में भ्रांतियाँ फैलाते हैं कि ‘स्त्री का गुरु तो पति ही है, अतः अन्य गुरु का निषेध अपने-आप हो जाता है।’ उन लोगों को शास्त्र के दृष्टांतों से ही बता सकते हैं कि उनकी मान्यता गलत है। भगवान शंकर ने अपनी पत्नी पार्वती को वामदेव ऋषि से दीक्षा दिलायी थी। शबरी के गुरु उसके पति नहीं थे, भगवान श्रीराम भी नहीं थे, एक महापुरुष मतंग ऋषि शबरी के गुरु थे। मीराबाई के गुरु उनके पति नहीं थे, भगवान कृष्ण को भी मीरा ने गुरु नहीं बनाया, संत रैदासजी को गुरु बनाया। सहजोबाई ने पति को गुरु नहीं बनाया, संत चरनदासजी को गुरु बनाया और वे कहती हैं :
राम तजूँ पै गुरु न बिसारुँ।
गुरु के सम हरि कूँ न निहारुँ॥
कुछ तथाकथित निगुरे लेखक शास्त्रों का मनमाना अर्थ लगाकर लोगों को यहाँ तक कह डालते हैं कि श्रीकृष्ण या शिवजी को ही गुरु मान लो। भगवान श्रीकृष्ण ने ऐसा नहीं कहा कि उनको ही गुरु बना लो। जीवित महापुरुष सांदीपनि मुनि को गुरु बनानेवाले श्रीकृष्ण गीता के चौथे अध्याय के 34वें श्लोक में कहते हैं :
तद्विद्धि प्रणिपातेन परिप्रश्नेन सेवया।
उपदेक्ष्यन्ति ते ज्ञानं ज्ञानिनस्तत्त्वदर्शिनः॥
‘उस ज्ञान को तू तत्त्वदर्शी ज्ञानियों के पास जाकर समझ। उनको भलीभाँति दण्डवत् प्रणाम करने से, उनकी सेवा करने से और कपट छोड़कर सरलतापूर्वक प्रश्न करने से वे परमात्म-तत्त्व को भलीभाँति जाननेवाले ज्ञानी महात्मा तुझे उस तत्त्वज्ञान का उपदेश करेंगे।’
भगवान की बात काटकर समाज को वैदिक गुरु-शिष्य परम्परा से विमुख करनेवाले निगुरे गुरुओं के उपदेशों से सावधान होना बहुत जरूरी है क्योंकि वे भारत की गुरु-शिष्य परम्परा को ही नकार देने का घोर अपराध करते हैं।
वैदिक साहित्य के उपनिषद्, गीता या अन्य किसी भी ग्रंथ में निगुरे रहने का उपदेश नहीं दिया गया। श्रुति कहती है :
तद्विज्ञानार्थं स गुरुमेवाभिगच्छेत्
समित्पाणिः श्रोत्रियं ब्रह्मनिष्ठम्।
‘उस जिज्ञासु को परमात्मा का वास्तविक तत्त्वज्ञान प्राप्त करने के लिए हाथ में समिधा लेकर श्रद्धा और विनय भाव के सहित ऐसे सद्गुरु की शरण में जाना चाहिए जो वेदों के रहस्य को भलीभाँति जानते हों और परब्रह्म-परमात्मा में स्थित हों।’ (मुण्डकोपनिषद् : 1.2.12)
ऐसी सनातन धर्म की दिव्य परम्परा को नष्ट करनेवाले निगुरे सम्प्रदाय के गुरुओं के उपदेशों से सावधान होना बहुत जरूरी है।
भगवान विट्ठल ने अपने भक्त नामदेव के लिए स्वयं गुरु न बनकर उन्हें ब्रह्मनिष्ठ महापुरुष विसोबा खेचर से दीक्षा लेने को कहा था। यही नहीं स्वयं आद्यशक्ति माँ काली ने रामकृष्ण परमहंसजी को स्वयं दीक्षा न देकर उन्हें गुरु तोतापुरीजी की शरण में जाने को कहा था। और तो और, स्वयं भगवान श्रीराम व श्रीकृष्ण ने भी गुरु बनाये थे।
अतः भ्रांतियाँ फैलानेवाले नासमझ लेखकों को किसी धार्मिक पत्रिका में लेख छपवाने से पहले सोचना चाहिए। अपनी अल्पबुद्धि का परिचय नहीं देना चाहिए और स्वामी नित्यानंदजी जैसे समझदार महात्मा की बात माननी चाहिए। डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी जैसे तटस्थ न्यायविदों ने जो बात कही है कि ‘‘बापू के खिलाफ किया गया केस पूरी तरह बोगस है।’’ और यह भी कहा कि ‘‘हिन्दू-विरोधी एवं राष्ट्र-विरोधी ताकतों के गहरे षड्यंत्रों को और हिन्दू संतों को बदनाम करने के उनके (विधर्मियों के) गुप्त हथकंडों को सीधे व भोले-भाले हिन्दू नहीं देख पा रहे हैं।’’ इन बातों की कद्र करके अपनी हिन्दू संस्कृति की रक्षा करनी चाहिए। एक ईसाई या मौलवी से कोई गलत काम हो जाता है, न्यायालय में सिद्ध भी हो जाता है तो भी दूसरा ईसाई या मौलवी उसको दोषी नहीं कहता क्योंकि अपने धर्म का है। हिन्दू संस्कृति ये नहीं कहती कि तुम दोषी को दोषी न कहो लेकिन इतना जरूर कहती है कि निर्दोष पर दोषारोपण करने के पहले सच्चाई जानने का प्रयास तो करो। हिन्दू संस्कृति के दुश्मन, हिन्दुत्व के लिए पूरा जीवन अर्पण करनेवाले किसी संत को षड्यंत्र करके फँसाने का प्रयास करते हैं और दूसरे कुछ हिन्दू, जो अपने को हिन्दुत्व के रक्षक मानते हैं, बिना सत्य की गहराई में गये उन संत पर टिप्पणी करने लगते हैं यह कितने खेद की बात है!
डॉ. डेविड फ्रॉली कहते हैं : ‘‘भारत को अपने लक्ष्य तक पहुँचना है और वह लक्ष्य है अपनी आध्यात्मिक संस्कृति का पुनरुद्धार। इसमें न केवल भारत का अपितु मानवता का कल्याण निहित है। यह तभी सम्भव है जब भारत के बुद्धिजीवी आधुनिकता का मोह त्यागकर अपने धर्म और अध्यात्म की कटु आलोचना से विरत होंगे।’’
(पृष्ठ 14, ‘उत्तिष्ठ कौन्तेय’)
अतः सावधान रहने की आवश्यकता है। धर्मशास्त्र के नाम पर अधर्म का उपदेश दे के संत-महापुरुषों को अपनी तुच्छ बुद्धि से तौलनेवाले एवं विधर्मियों के षड्यंत्रों को न समझकर संतों की निंदा करनेवाले ऐसे नासमझ लोगों से समाज को सावधान रहने की आवश्यकता है।

 
Leave a comment

Posted by on January 21, 2014 in Faith & Devotion

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

 
%d bloggers like this: